कविता के टुकड़े...

आजकल

मैं पढता नहीं अखबार,

एक ही ख़बर

बार-बार।

Popular posts from this blog

Grow your business with Facebook Ads

Delhi Star Kids DSK