कभी-कभी... 06/12/2009

Thursday, March 24, 2016

बालकोनी की ओर उठती है नज़र कभी-कभी,

तेरे चेहरे पर जाती है ठहर कभी- कभी।


यूँ तो इस गली से मेरा गुजरना होता नहीं,

शाम में शायद सिमट जाता है शहर कभी-कभी।


दिल मेरा और यह इलाका हराभरा है नहीं,

यकायक आ जाती है बारिश कभी-कभी।


इंसानों की नीयत का ठिकाना होता नहीं,

मुसलमां हैं लेकिन पूजते हैं पत्थर कभी-कभी।


नजाकत और नफासत मेरी शायरी में नहीं,

भटक जाती है कलम नीरज की मगर कभी-कभी।

FEATURED POST

009 Hard questions to be answered before starting a freelancing career

Freelancing is a new style of working. And so many youngsters are attracted to this option for obvious reasons. But... I think only 5% ...

7DYAS TRENDING