Recent Post

You are not an expert, i am not, too

There is no shortcut to success, mastery or knowledge. This is the most important and priceless teaching we should give to our younger gener...

बचपन की आली

Thursday, April 14, 2016

अधखिली कली वो जूही की

मेरे बचपन की आली थी,

मेरे सपनो की गलियों में

फिरती बनी मतवाली थी।


चंचल चितवन, गोरी शबनम

सोम-सुधा की प्याली थी,

वह वसंत के दिन में

मेरे जीवन की हरियाली थी।


जब यौवन सावन घिर आया

दूर खड़ी भरमाती थी,

गुमसुम गुपचुप नयनों से

उसकी छुअन सहलाती थी।


पाक जिस्म मैं, मन से भोला

वो मासूम हिय की वाणी थी,

गया वसंत ना आएगा

हुई मुझसे नादानी थी।